चंद्र (MOON)

नंदी ..ओ ..नंदी .. कहाँ हो.. मामा के घर से घूम के आने के बाद अब कुछ पढ़ भी लो| दो महीने होने को आये,ज्योतिष की क्लास भी नहीं लगी है तुम्हारी| कुछ याद भी है या सबकुछ भूल भल गयी? कुछ नहीं भूले हैं बाबा| सब याद है| बस आ गए कॉपी कलम लेके| …

Continue reading चंद्र (MOON)

ग्रह शांति

फोटो, साभार: Google रामप्रीत दा, ई मुंह अन्हारे कहाँ चले दिए .. अरे कुछ नहीं ज्ञानी  ..कुछ समय से बड़ी परेशानी में हैं। किसी का कुछ बिगाड़े भी नहीं हैं न किसी को कोई तकलीफ दे रहे हैं फिर भी न जाने काहे कोई भी काम करते हैं सब उलटा ही हो जाता है। कर्जा …

Continue reading ग्रह शांति

ग्रहों के दोस्त और दुश्मन

दुल्हिन कहाँ हैं आप ? और आज घर में इतना शांति काहे है? नंदी और नंदू  भी कहीं दिखाई नहीं दे रहे और न ही बच्चों की मामा दिख रही है| कहाँ हैं सब के सब? वशिष्ठ बाबू ने दलान पर से आवाज लगाई| आई बाबूजी ! माँ तो पड़ोस में गयी हैं नंदी के …

Continue reading ग्रहों के दोस्त और दुश्मन

सूर्य उपासना

  सूर्य उपासना   सूर्य उपासना का महापर्व है छठ | सवाल है की सूर्य की उपासना क्यों ? आइये जाने सूर्य के लिए उपनिषद क्या कहते हैं - कठोपनिषद के अनुसार :- "सूर्यो यथा सर्वलोकस्य चक्षु र्न  लिप्यते चाक्षुषैर्बाह्यदोषैः | एकस्तथा सर्वभूतान्तरात्मा न लिप्यते लोकदुःखेन बाह्य ||"   एक ही सूर्य सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड को …

Continue reading सूर्य उपासना

 छठ + ज्योतिष

                                                             छठ + ज्योतिष श्रद्धा और आस्था का महापर्व छठ | कार्तिक शुक्ल पक्ष चतुर्थी से शुरू होकर शुक्ल सप्तमी तक चार दिनों तक चलने वाला …

Continue reading  छठ + ज्योतिष

श्रद्धा और आस्था का महापर्व छठ

  महापर्व छठ श्रद्धा और आस्था का महापर्व है छठ |आज नहाय खाय ,कल खरना ,परसों सँझिया अर्घ्य और उसके कल होके भोरका अर्घ्य और पारणा ,चार दिनों तक चलने वाला महापर्व है यह | सूर्य जब अपनी नीच राशि ,तुला राशि में गोचर कर रहा होता है तब यह पर्व मनाया जाता है |पहला …

Continue reading श्रद्धा और आस्था का महापर्व छठ