महामारी से राहत का अचूक मन्त्र

               जनवरी'2017 और सितम्बर'2018 में मैंने, 2020 में विश्व के आर्थिक मंदी और देश के स्वास्थ्य को लेकर ग्रहों के संकेत की बात कही थी| इसे आप सब मेरे ब्लॉग http://www.lightonastrology,पर पढ़ सकते हैं और मेरे यूट्यूब वीडियो में भी सुन सकते हैं| आज एक बार फिर अपनी बातों को एक एक कर …

Continue reading महामारी से राहत का अचूक मन्त्र

शनि का गोचर

शनि का गोचर अगर कुंडली के अष्टम भाव से हो रहा है तो यह उम्मीद बन कर आया है या निराशा लेकर आया है ?? खासकर तब यह चिंता और बढ़ जाता है जब शनि का गोचर अष्टम भाव में उपस्थित चन्द्रमा के ऊपर से हो रहा हो| बगैर कुछ कहे हम मनोवैज्ञानिक दवाब में …

Continue reading शनि का गोचर

मंगल का राशि परिवर्तन

कुंभ राशि में मंगल का आना। हालांकि वह शनि की राशि मकर से निकल कर शनि की ही राशि कुंभ में आया है लेकिन हालात बिल्कुल बदल गए हैं । 1 - मंगल अपनी उच्चता से बाहर आया है - ego settle होने में थोड़ा समय तो लगेगा । पृथ्वी तत्व राशि से निकल कर …

Continue reading मंगल का राशि परिवर्तन

रामचरितमानस और कोट चक्र

साल 2012 में मैंने कोट चक्र के रहस्यों को समझने का एक प्रयास शुरू किया । कोटपाल और कोटस्वामी की पूर्व वर्णित परिभाषा को पुनर्परिभाषित किया । यहाँ मैने धनुराकार कोटचक्र और सामान्य कोट चक्र संलग्न किया है । यहाँ प्रवेश द्वार भिन्न है। यहाँ हर ग्रह के लिए एक एक दिशा निर्धारित की गई …

Continue reading रामचरितमानस और कोट चक्र

#COVID_19 pandemic और ग्रहों का संचार…

31 मार्च 2020 ..यानि की आज ..मंगल और शनि तथा चंद्र और राहु ..एक ही समयावधि में एक खास तरह के युति में जाएंगे ।मंगल और शनि मकर राशि में तथा चंद्र और राहु मिथुन राशि में । भारत की कुंडली में मकर राशि और मिथुन राशि ...सर्वाष्टक में सबसे कम बिंदु वाले राशि हैं …

Continue reading #COVID_19 pandemic और ग्रहों का संचार…

सूर्य परिवेश

       सूर्य परिवेश मेरे पास ये तस्वीरें आयीं | सूर्य के चारो तरफ गोलाकार आकृति है | पूछा गया है कि क्या ज्योतिष इसके बारे में भी कुछ कहता है ?? बहुत ही अच्छा लगा कि इस तस्वीर  को मेरे साथ साँझा किया | प्रकृति से हम सब जुड़ें | सूरज,चाँद, वायु से बतियाएं | …

Continue reading सूर्य परिवेश

” सुनु भरत भावी प्रबल …”

     चैत्र नवरात्रि से ठीक पहले हम काल के उस उस मुहाने पर खड़े हैं जहाँ सम्पूर्ण विश्व एक जैसा सोच रहा है|  काल के इस मुहाने पर युग परिवर्तन की प्रतीति हो रही है |परिवर्तन की इस घड़ी में भारतवर्ष की कैसी भूमिका ग्रहों ने तय किया है, इसकी चर्चा हम आज यहाँ करेंगे …

Continue reading ” सुनु भरत भावी प्रबल …”