स्वस्थ रहना है तो स्वर को पहचाने ( भाग -1 )

त्रेता युग में जो लड़ाई दो प्रदेशों के बीच रहा और द्वापर आते आते वही लड़ाई प्रदेश से निकल कर परिवार में प्रवेश कर गया ,वही लड़ाई कलयुग में परिवार से निकलकर व्यक्ति के भीतर ही प्रवेश पा चुका है | जहाँ त्रेता में अंधकार और प्रकाश को बड़ी सरलता से पृथक किया जा सकता …

Continue reading स्वस्थ रहना है तो स्वर को पहचाने ( भाग -1 )

ज्योतिष और चिकित्सा विज्ञान

ज्योतिष और चिकित्सा विज्ञान एक साथ एक मंच पर आये ज्योतिष के द्वारा कैसे हो रक्तचाप और दिल के रोग का उपचार .. मुख्य अतिथि के रूप में मेरी सहभागिता रही  

नकारात्मकता से बाहर आना चाहते हैं तो इसे जानिये

  तेज रफ़्तार जिंदगी , फटाफट सब कुछ पा लेने की चाहत ने आज सभी को अपने चपेट में ले रखा है |नतीजा असंतुलन | मानसिक असंतुलन , व्यावसायिक असंतुलन , सामाजिक असंतुलन ,भावनात्मक असंतुलन आदि आदि |इन सब की वजह से धीरे धीरे नकारात्मकता अपना पांव पसारने लगता है और व्यक्ति कब उसकी चपेट …

Continue reading नकारात्मकता से बाहर आना चाहते हैं तो इसे जानिये

  अष्टांगयोग

  अष्टांगयोग जगत के विविध तापों  से छुटकारा दिलाने वाले अष्टांग योग की बृहत् चर्चा करता है ज्योतिषशास्त्र |ब्रह्म को प्रकाशित करनेवाला ज्ञान भी ‘ योग ‘से ही सुलभ होता है |एकचित्त होना ,चित्त को एक जगह स्थापित करना योग है |चित्तवृतियों के निरोध को भी योग कहते हैं |जीवात्मा एवं परमात्मा में ही अंतःकरण …

Continue reading   अष्टांगयोग