नंदी की जिद

सुबह सुबह स्नान ध्यान से फारिग होकर वशिष्ठ बाबू बैठे ही थे कि नंदी की आवाज़ सुनाई पड़ी| बाबाЅЅЅ ओ बाबा कहाँ हैं आप? अरे सब घर में आपको देख आये, कहीं नहीं दिखाई दिए| क्या हुआ नंदी बेटा.. सुबहे सुबहे क्या हो गया जो इतना चिल्ला रही हो? हम यहाँ हैं दलान पर| नंदी …

Continue reading नंदी की जिद

लंबा चल सकता है किसान-सरकार संघर्ष

 का हाल बा भैया? सब ठीक बा न? भोरे भोर तोहार माथा पर ई परेशानी के निशान कहेला देखा रहल है?? घर, परिवार में सब ठीक है न? बच्चा सिंह ने सुबह की सैर पर टुनटुन सिंह से पूछा| हाँ रे बच्चा, घर, परिवार में त सब ठीके है- टुनटुन सिंह ने धीमे स्वर में …

Continue reading लंबा चल सकता है किसान-सरकार संघर्ष

या देवी सर्वभूतेषु बुद्धि रूपेण संस्थिता| नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तयै नमो नमः

फोटो साभार : google कुछ लोग, जीवन में हलकी सी कोई लहर आते ही निराशा के चपेट में चले जाते हैं| वे यह सोचने लगते हैं कि, उनके जीवन में कभी कुछ अच्छा घटित ही नहीं होगा| सारी अच्छी घटनाएं दूसरों के जीवन में ही घटित होंगी| निराशावादी व्यक्ति धीरे धीरे अपने आपको हर एक …

Continue reading या देवी सर्वभूतेषु बुद्धि रूपेण संस्थिता| नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तयै नमो नमः

मादक द्रव्य का सेवन (व्यसन) और युवा पीढ़ी का भटकाव – शास्त्रीय समाधान

फोटो, साभार: google भारतीय युवा पीढ़ी में मादक द्रव्यों का बढ़ता सेवन चिंता का विषय है| यह एक गंभीर समस्या का रूप धारण करती जा रही है| व्यसन क्या है और कैसे स्वयं के प्रयास से इससे मुक्त हुआ जा सकता है इसे आज हमलोग रामचरितमानस और भगवद्गीता के माध्यम से जानेंगे| इसका ज्योतिषीय पक्ष …

Continue reading मादक द्रव्य का सेवन (व्यसन) और युवा पीढ़ी का भटकाव – शास्त्रीय समाधान

कहीं आपकी कुंडली में केमद्रुम योग तो नहीं

फोटो: साभार - google कुंडली में अगर चंद्र केमद्रुम योग में हो तो किस प्रकार कड़े संघर्ष के बाद मनोबांछित फलों की प्राप्ति होती है  और कमजोर दशा मिल गए तो क्या परिणाम देता है और जैसे ही शुभ दशा या मजबूत दशा का समर्थन मिलता है क्या फल मिलता है-इसे ही मैंने एक कहानी …

Continue reading कहीं आपकी कुंडली में केमद्रुम योग तो नहीं

चाँद ( MOON)- ज्योतिष में इसकी इतनी महत्ता क्यों ?

किसी ने चाँद में अपनी महबूबा को देखा तो किसी ने चाँद में अपने मामा को देखा| किसी ने स्त्री माना तो किसी ने पुरुष माना|   देव गुरु बृहष्पति के शिष्य चाँद की ख़ूबसूरती पर गुरु पत्नी तारा इस कदर रीझ गयीं कि चाँद के साथ सम्बन्ध स्थापित कर लिया| दोनों के इस संबंध …

Continue reading चाँद ( MOON)- ज्योतिष में इसकी इतनी महत्ता क्यों ?

शनि की साढ़े साती, ढैय्या और पंचम शनि

                            बहुत सारे व्यक्ति यह सोच कर भयाक्रांत होते हैं कि शनि की साढ़ेसाती, शनि की ढैय्या या पंचम शनि शुरू होने वाली है| वे परेशान होकर, इसके अनिष्टकारी  प्रभाव से कैसे बचा जाये, यह जानना चाहते हैं| आइए यहाँ ज्योतिष के नजरिये से यह देखने की कोशिश करें कि शनि की साढ़ेसाती, शनि की …

Continue reading शनि की साढ़े साती, ढैय्या और पंचम शनि