नंदी की जिद

सुबह सुबह स्नान ध्यान से फारिग होकर वशिष्ठ बाबू बैठे ही थे कि नंदी की आवाज़ सुनाई पड़ी| बाबाЅЅЅ ओ बाबा कहाँ हैं आप? अरे सब घर में आपको देख आये, कहीं नहीं दिखाई दिए| क्या हुआ नंदी बेटा.. सुबहे सुबहे क्या हो गया जो इतना चिल्ला रही हो? हम यहाँ हैं दलान पर| नंदी …

Continue reading नंदी की जिद

बदलेगा मकर संक्रांति और उत्तरायण का इतिहास

दुल्हिन! हे दुल्हिन! सुनैछी, मामा ने माँ  को हाँक लगते हुए कहा| जी सरकार जी| काल्ह तिलसकरात हई त तिल, मुढ़ी आ चिउरा के लाई आई बनतई,  से है न याद| आ काल्हे से सूरज भी उत्तरायण होथिन त पंडित जी से होम करवायल जतई| रमेसरा के कहवइ, जे आइये हुनका न्योत अतई| आ ओने …

Continue reading बदलेगा मकर संक्रांति और उत्तरायण का इतिहास

लंबा चल सकता है किसान-सरकार संघर्ष

 का हाल बा भैया? सब ठीक बा न? भोरे भोर तोहार माथा पर ई परेशानी के निशान कहेला देखा रहल है?? घर, परिवार में सब ठीक है न? बच्चा सिंह ने सुबह की सैर पर टुनटुन सिंह से पूछा| हाँ रे बच्चा, घर, परिवार में त सब ठीके है- टुनटुन सिंह ने धीमे स्वर में …

Continue reading लंबा चल सकता है किसान-सरकार संघर्ष

शिक्षा और नौकरी

फोटो, साभार: google स्कूली दोस्त, संजय वैसे तो सभी विषयों में ठीक ठाक था पर संस्कृत के नाम पर भाग जाता था । इससे जब कहा जाता कि थोड़ा संस्कृत भी पढ़ लो, तब पटोत्तर सुनाते हुए कहता .. संस्कृत पढ़ने की जो बात करोगे .. कापी फाड़ फेंक दूँगा… कलम तोड़ ..दावात उलट..स्याही तुझे …

Continue reading शिक्षा और नौकरी

गणित का जादू

फोटो, साभार: google पढ़ना इ लड़का के बूते का नहीं है| एक भी हिसाब इससे हले नहीं होता है| अब क्या करें इसका| सौम्य की माँ गुस्से में भुनभुना रही थीं| क्या हुआ माँ? देख रहा हूँ आप बड़े गुस्से में हैं| आखिर क्या बात हो गई? अगर हमें बताने लायक है तो बताइये, सौम्य …

Continue reading गणित का जादू

वैलेंटाइन्स डे

फोटो, साभार: google आखिर कर ली न अपने मन की, अब हो गयी न तसल्ली| बर्फ के पहाड़ खड़े कर दिए न| हो गयी तसल्ली या दो दिनों तक अभी इसी मस्ती में रहना है, राहु ने चंद्र से पूछा| मेरी मस्ती का छोड़ो, तुम सीधा सीधा मुद्दे पर आओ और कहो क्या कहना चाहते …

Continue reading वैलेंटाइन्स डे

मिट्टी का रंग

फोटो, साभार: google नेपथ्य में राहु, मंगल को, शनि के साथ नव वर्ष पर देखकर घबराहट सी होने लगी। पर थोड़ा सुकून मिला यह देखकर कि बृहष्पति की नजर है इस गुप्त मिलन पर| उधर केतु भी बेचैन है| वह भी इसमें शामिल होना चाहता है| मैने कहा उसे कि थोड़ा सबर कर लो भाई, …

Continue reading मिट्टी का रंग