ग्रहों की गति और राष्ट्रीय शिक्षा नीति

New National Education Policy | NEP 2020: Institutions of Eminence to take  a lead in introduction of 4 year degree course this year | Education News
फोटो साभार : google

इसी वर्ष जुलाई माह में 29 तारीख को केंद्र सरकार ‘राष्ट्रीय शिक्षा नीति’ लेकर आयी है| डॉक्टर कस्तूरीरंगन की अध्यक्षता में गठित की गयी  समिति ने 15 दिसम्बर 2018 में इस शिक्षा नीति का मसौदा तैयार करके सरकार को सौंपा था| इक्कीसवीं सदी की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए ही इस शिक्षा नीति को तैयार किया गया है| इसका उद्देश्य प्रत्येक छात्र में आंतरिक परिवर्तन के साथ साथ गुणात्मक परिवर्तन तो करना है ही साथ ही साथ उनमें अन्तर्निहित क्षमताओं को भी बाहर लाना है| आज हमलोग यहाँ ज्योतिष के माध्यम से यह जानेंगे कि नई शिक्षा नीति कब लागू होगी ? इसकी चर्चा इसलिए आवश्यक है क्योंकि यह सिर्फ एक शैक्षणिक ढांचा है| इसके आधार पर जब कानून बनेगा तब यह लागू होगा|

ज्योतिषीय आकलन जानने से पहले, संक्षेप में यह जान लें कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति में क्या खास बात बताई गयी है?

1- MHRD का नाम बदलकर मिनिस्ट्री ऑफ़ एजुकेशन किया गया है|

2- पहले से चली आ रही 10 + 2 व्यवस्था को अब 5+3+3+4 किया गया है| फाउंडेशन स्टेज ( कक्षा एक और कक्षा दो ), प्रिपरेटरी स्टेज ( कक्षा तीन, चार और पांच ), माध्यमिक स्टेज ( कक्षा छह, सात और आठ ) और उच्च स्टेज ( कक्षा नौ, दस, ग्यारह और बारह )| स्कूल में विज्ञान, कला और वाणिज्य के स्ट्रीम के विषयों में से  छात्र जो पढ़ना चाहें उन विषयों को लेकर पढाई कर सकते हैं|

3- ग्रेजुएशन चार वर्ष का होगा और यहाँ कई इंट्री और एग्जिट मार्गों की व्यवस्था की गयी है|

4- पोस्ट ग्रेजुएशन एक वर्ष और दो वर्षों का होगा|

5 – M Phil को समाप्त किया गया है|

6- चार वर्षों का PhD होगा|

7- देश से बाहर के वैसे पचास विश्वविद्यालय जो गुणवत्ता के आधार पर सर्वोत्तम हैं, भारत में अपनी शाखा खोल सकेंगे| इसी प्रकार भारत भी अपने यहाँ के शिक्षण संस्थानों की शाखा को अन्य देशों में खोल सकेगा|

8- पहली पांच साल तक पढाई का माध्यम मातृभाषा में होगा|

9- Multidisciplinary Unit University की स्थापना की जाएगी|

10- UGC का काम अलग अलग समिति को सौंपा जायेगा|

11- राष्ट्रीय शिक्षा आयोग का गठन किया जायेगा|

12- जीडीपी का 6% पैसा इस मद हेतु दिया जायेगा|

13- सरकार के खर्चे का कम से कम बीस प्रतिशत इस पर खर्च किया जायेगा|

इस शिक्षा नीति को लेकर भिन्न भिन्न विशेषज्ञों और शिक्षाविदों की राय भिन्न भिन्न है| कुछ इसे प्रगतिशील  मान रहे हैं तो कुछ के अनुसार यह सिर्फ ” इ कोठी के धान उ कोठी ” करने वाली बात है|

आइये जाने कि इसको लेकर ज्योतिष क्या कहता है|

ज्योतिष के अनुसार

1-वर्ष 2022 / 2023 में NEP की कुछ बातें लागू  होंगी, जिनमे ECCE ( Early Childhood Care And Education) प्रमुख होगा| 

2 – English Medium School यथावत रहेंगे|

3- हायर एजुकेशन में मल्टीडिसिप्लिनरी विश्वविद्यालयों की स्थापना को लेकर वर्ष 2023 के अक्टूबर  माह में कुछ ठोस निर्णय लेने की दिशा में प्रयास शुरू किया जायेगा|

4 – 2023 में ही शिक्षा के व्यवसायीकरण पर नकेल लगाने हेतु प्रयास शुरू किये जायेंगे|

5 – 2023 में ही शिक्षकों की गुणवत्ता में सुधार हेतु भी कठोर निर्णय लिए जायेंगे|

6 – 2023 में ही भारत सरकार द्वारा सभी वैसे विद्यार्थी जो कि लड़की हैं या ट्रांसजेंडर हैं, के लिए ‘ Gender Inclusion Fund’ की व्यवस्था की जाएगी|

7 – 2023 में ही सभी उच्च शिक्षा संस्थानों ( कानूनी और मेडिकल कॉलेजों को छोड़कर ) के लिए एकल नियामक को बनाया जायेगा| इस नियामक को लेकर विवाद की स्थिति भी बन सकती है|

साल 2023 में कुछ अन्य बातों की तरफ भी ग्रहों के संचरण  द्वारा संकेत मिलते हैं, वह हैं

1 – अल्पसंख्यक को पुनर्परिभाषित किया जा सकता है|

2 – संविधान में बड़े परिवर्तन का साल होगा यह|

3 – वित्तीय संस्थानों, बैंकों की कार्य प्रणाली में अमूल चूल परिवर्तन किये जा सकते हैं| कुछ बैंक बंद किये जा सकते हैं|

4 – जनसंख्या पर लगाम लगाने हेतु कानून बन सकता है|वैवाहिक संरचना पर नए सिरे से विचार और विवाह को लेकर कुछ निर्णय लिए जा सकते हैं|