कोरोना वायरस + चीन + ग्रहों का संकेत

  Image result for coronavirus  

माघ शुक्ल प्रतिपदा को चीन ने अपना नव वर्ष मनाया |इस नव वर्ष की चर्चा आज हम करेंगे |चीन के अर्थ मंदी और अमेरिका के साथ व्यापार  को लेकर तनातनी के बारे में मैं पहले से लिखती रही हूँ आज एक बार फिर नव वर्ष की कुंडली और चीन की वर्तमान काल चक्र दशा के आधार पर इन दोनों के बारे में थोड़ा विस्तार से जानेंगे साथ ही साथ कोरोना वायरस के कारण  होने वाले स्वास्थ्य सम्बन्धी परेशानी से राहत कब तक -इसको भी जानेंगे |

चीन की वर्तमान काल चक्र दशा है वृषभ / धनु

चीन – मकर लग्न की कुंडली है | द्वादश भाव की अंतर्दशा शुरू हुई है |

धनु – सिंहावलोकन  दशा है |कमजोर दशा के साथ जब सिंहावलोकन जुड़ जाए तो अस्थिरता अवश्यम्भावी है |

माघ शुक्ल प्रतिपदा की कुंडली भी इन्ही बातों का समर्थन करती है |

आइये अब देखें ग्रहों की गोचरीय स्थिति का इस दशा को कब तक समर्थन मिल रहा है |

13 फरवरी तक राहु का गुप्त सम्बन्ध कुछ ग्रहों के साथ बना हुआ है जिसमे शुक्र और गुरु ( महादशा स्वामी और अंतर्दशा स्वामी ) भी शामिल हैं | तो हम कह सकते हैं की इस समय तक इस वायरस का प्रकोप तेज रहेगा | 14 फरवरी से शुक्र का सम्बन्ध राहु से समाप्त हो जायेगा लेकिन गुरु का सम्बन्ध राहु के साथ रहेगा | कहने का तात्पर्य यह की अभी पूर्ण रूप से खत्म तो नहीं होगा लेकिन 14 फरवरी से इसकी तीव्रता में कमी आएगी |

अब बात अर्थ मंदी और अमेरिका के साथ व्यापर के लेकर तनातनी की |काल चक्र दशा और नव वर्ष की कुंडली के आधार पर चीन भी अर्थ मंदी से अछूता तो नहीं है लेकिन अभी जब तक वृषभ की दशा चल रही है ,वह इसके प्रहार से होने वाले जख्मों को छुपा लेगा लेकिन आगे आने वाली दशा है मिथुन की | वृषभ की दशा में जो आघात मिले उनका स्पष्ट प्रभाव मिथुन की दशा में दिखने लगेगा | कुल मिलाकर हम कह सकते हैं की आने वाले दिनों में अर्थ के पायदान पर चीन का फिसलना जारी रहेगा |

अब बात अमेरिका के साथ व्यापारिक संबंधों की | दशा और माघ शुक्ल प्रतिपदा की कुंडली हमें चीन की वर्तमान सरकार की तीक्ष्ण कूटनैतिक समझ की ओर इशारा कर रहे हैं अर्थात इस व्यापारिक शीत युद्ध में चीन का पलड़ा भारी रहने वाला है |

मिथुन की दशा शुरू होने से पहले वृषभ में धनु और मेष की अंतर्दशा बीतेगी जो की सिंहावलोकन की दशा होगी | यह समय चीन के लिए बहुत संवेदनशील  समय है |

@B Krishna Narayan

ASTRO TALK

http://www.lightonastrology.com