Re( visit ), Re(think), Re(interpret )

Image result for illusion

 

ज्योतिषशास्त्र को लेकर भ्रम की स्थिति ..
आँख मूँदकर ज्योतिष के किताबों में लिखी गई बातों पर अपना ज्योतिषीय विश्लेषण ‘ फिट ‘ करना ..
उन्हें ही पूर्ण सत्य मानकर आगे बढाना..
आत्मघाती है..

कुछ उदाहरण ..

व्यक्ति की कुंडली में Moon in the sign of mars aspected by Saturn ..कहीं इसे detachment देने वाला कहा गया है तो कहीं ऐसा व्यक्ति चोर होगा यह कहा गया है..
कैसे जानेंगे कि क्या सही है ??
जबतक खुद शोध नही करेंगे तबतक नही जान पाएंगे ..

वर्तमान में प्रयुक्त होने वाला विंशोत्तरी दशा ही संदेहास्पद है ..

काल चक्र दशा , (जिसे दशाओं का सम्राट कहा गया है)तो और भी भ्रामक है ..
यहाँ स्पष्ट रूप से चंद्रमा और ‘ चंद्रमा के नवांश ‘ की चर्चा है पर विश्लेषण में इसे नही लिया जाता ..
सव्य और अपसव्य वर्ग बनाकर उन्हें तीन तीन उपवर्गो में बांटकर चार चरण में उनकी गतियों को बनाया जाता हैं पर इन उपवर्गो में दो की गतियों को एक समान बना दिया गया है। अब जब एक ही गति है तो अलग उपवर्ग क्यों ?? दो ही उपवर्ग क्यों नही ?? अब इन चार चरणों की गति के लिए परमायु निर्धारित कर दिया ..
अब इस पहले से ही निर्धारित किए गए परमायु के आधार पर गति को ‘ फिट’ कर दिया ..
आँख मूँदकर लकीर के फकीर कब तक बनते रहेंगे ??
जरूरत है समय रहते सुधार करने का ..
Fitology से बाहर निकल कर काम करने का ..
निज शोध का ..

Re( visit )
Re(think)
Re(interpret )