New Dimension Of Kot-Chakra

@B Krishna

इस पोस्ट में मैंने रामचरितमानस और धनुराकार कोट चक्र की चर्चा की है .. रामचरितमानस के सुंदरकांड का वह छंद जो इसका सूत्रपात करता है वह है .. ” कनक कोट विचित्र मनि कृत सुंदरायतना घना ।
चउहट्ट हट्ट सुबट्ट बीथीं चारू पुर बहु बिधि बना ।।
गज बाजि खच्चर निकर पदचर रथ बरूथह्नि को गनै ।
बहुरूप निसिचर जूथ अतिबल सेन बरनत नहि बनै ।।”
यह हमें कोट चक्र का निर्माण कैसे किया जाए इसका सूत्र पकड़ाता है .. इसी में जब आगे बढ़ते हैं तब हमें इस कोट में प्रवेश का मार्ग North दिशा से होगा यह संकेत मिलता है। प्रवेश का आधार चंद्र राशि नहीं बल्कि नक्षत्र होगा इसको यह कहकर समझाया ..
” मसक समान रूप कपि धरौं …

 

cropped-logo.png

 

दुर्ग में प्रवेश के बाद कितने प्रकार की सेनाओं से हमारा सामना होगा उसके बारे में संकेत देते हुए यह कहता है ..
“गज बाजि खच्चर निकर पदचर ..”
अपने अपने रूप से मोहित करने का जिम्मा ..
“नर नाग सुर गंधर्व कन्या ..”
अनेक दांव पेंच से एक दूसरे को ललकारने का जिम्मा कौन कौन उठाते हैं ..कौन एक दूसरे को पराजित करने की और भक्षण करने की क्षमता रखते हैं .. धीरे धीरे जब सुंदरकांड में आगे बढ़ते हैं तब हमें सबसे महत्वपूर्ण सूत्र मिलता है जो कि इस चक्र को एक नया आयाम देता है ..वह यह कि दुर्ग का सबसे भीतरी हिस्सा अर्थात् स्तंभ खाली होने के बाबजूद दुर्ग भंग क्यों नही होता ..स्तंभ खाली है, मध्य और प्रकार में अशुभ ग्रह भी हैं फिर भी दुर्ग भंग क्यों नही होता ..
अलग अलग check point की चर्चा चलती है यहाँ ..
रामचरितमानस भी ज्योतिष शास्त्र की तरह बहुआयामी ग्रंथ है ..

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s