19 September / 15 November/ 9 October

वर्तमान वैश्विक परिदृश्य को देखते हुए देखते हैं कि ग्रहों के क्या संकेत हैं …
कौटिल्य ने कहा ” दुश्मन का दुश्मन दोस्त “
चीन के साथ बढ़ते कशमकश के बीच Shinjo Abe, जापान के प्रधानमंत्री भारत आए ।हालांकि चीन के साथ अभी के लिये Doklam को लेकर समझौता पर असली मसला तो जमाने से अनसुलझा रहा है।

म्यांमार के रोहिंग्या refugee का मसला।Kiren rijiju के बयान को लेकर UN के human rights council के head का रोषपूर्ण बयान। यह मसला तूल पकड़ सकता है।
म्यांमार में अन्य ethnic groups को भी काफी झेलना पर रहा है। वहाँ internal violence बढ़ सकता है।

ऐसा प्रतीत होता है कि Economically अभी भारत के पास कोई agenda नहीं है। जितने भी data आ रहे हैं,चाहे वह job sector से हो, banking sector को लेकर हो या और भी अन्य sector सब के सब कमजोर दिख रहे हैं।
वैसे तो economically,पूरे विश्व की स्थिति अच्छी नहीं है और जब economically ,down जाएंगे तब conflict बढ़ेगा ,यह सर्व मान्य नियम है।
एक और बड़ी समस्या या कहें कि ज्यादा बड़ा tension है North Korea,America और Russia.
North Korea वाले मसले से Japan भी agitated है। America ने North Korea को आर्थिक रूप से अस्थिर करने के लिए कई तरह के प्रतिबंध लगाए हैं जिनमें से textile ban प्रमुख हैं।
America में Trump election का मसला, Russia से मदद लेकर Hillary को हराने का मसला, तूल पकड़ रहा है। दिनों दिन Trump की तनातनी court के साथ बढ़ती जा रही है और इसमें court का upper hand है।
अफगानिस्तान को लेकर अमेरिका के नीतियों में बदलाव।Trump उसे military support तो देना चाह रहे हैं पर internal development के मुद्दे पर regional player की भूमिका पर बल देते हैं।इसका फायदा भारत को हुआ है।भारत ने वहाँ बहुत सारे project की घोषणा की है।
यूरोप में terrorism का खतरा हर वक़्त।
BREXIT को लेकर ब्रिटेन में आंतरिक प्रदर्शन बढ़ता जा रहा है।Scotland का एक और मसला है।
सिंगापुर में मलय ethnicity का मसला।
सीरिया के अस्तित्व का मसला
Turkey में गुलैन गुरु का मसला
पिछले कुछ वर्षों से natural disaster काफी बढ़ गए हैं।earthquake / storms / high speed winds / hurricane इत्यादि।
ASTROLOGICALLY ..
19 September / 15 November/ 9 October वैश्विक स्तर पर हिंसक गतिविधियों/ प्राकृतिक असंतुलन का संकेत देता है ।

19 सितंबर को ,हालांकि राहु यह भ्रम दे रहा है कि वह शनि के साथ नहीं है पर वास्तव में वह शनि का साथ दे रहा है और इसे समर्थन दे रहे हैं मंगल ,बुध और चंद्र । बृहष्पति अतिचारी है ।

15 नवंबर को स्थिति पहले से ज्यादा विस्फोटक। यहाँ मंगल को केतु का समर्थन मिल रहा है और बृहष्पति /शुक्र एक साथ हैं।
9 October को प्रकृति काफी असंतुलित होती दिख रही है।आठ ग्रह एक साथ हो रहे हैं ।

Earhquake की स्थिति भी तैयार।
जगह कहाँ ?? प्रयास जारी .. अमेरिका , फिलीपिंस या कहीं और …

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s