रामचरितमानस / ज्योतिषशास्त्र

रामचरितमानस से ज्योतिषशास्त्र को समझने का एक और प्रयास …
राजा जनक का एक नाम विदेह भी है
विदेह – बिना देह – राहु
सीता जी – भूमि सुता – मंगल
यहाँ से न सिर्फ राहु और मंगल को विश्लेषित करने के नए आयाम खुलते हैं वहीं राहु/मंगल योग को भी समझने का नया दृष्टिकोण मिलता है।

भगवान राम – सूर्य
सीता जी – भूमि सुता – मंगल
सूर्य / मंगल योग को समझने का नया दृष्टिकोण मिलता है।
पराशर होरा शास्त्र यदि ज्योतिषशास्त्र में योगशाला है तो रामचरितमानस प्रयोगशाला है।

One comment

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s