PAKSHA KUNDLI

30 October को बदलते पक्ष में ग्रहों के संकेत को देखकर रामचरितमानस का एक श्लोक याद आ रहा है –
” लव निमेष परमानु जुग वरष कलप सर चंड ।
भजसि न मन तेहि राम को कालु जासु को दंड ।।”
किसकी कितनी आयु हो लव भर ,निमेष इतना …

यहाँ बात राजनैतिक आयु की। अभी जो political drama उत्तर प्रदेश में चल रहा है इसमें कुछ concrete निकल कर आने की संभावना , सूर्य को 20* से ऊपर और मंगल को मकर में जाने के बाद बनती है अर्थात् नवंबर प्रथम सप्ताह में, पर राहु और बृहष्पति के गुप्त गठजोड़ में शनि शुक्र और आगे मंगल का जुड़ना जहाँ एक तरफ नैतिक मूल्यों से समझौते का संकेत है ,( उत्तरप्रदेश के राजनैतिकअवमूल्यन पर नजर ), न्यायिक प्रक्रिया से कोई bold decision लिए जाने का संकेत ,मजदूर संगठनों के उग्र होने का संकेत हो , नए प्रकार के बीमारियों के प्रकोप का संकेत है वहीं finance sector से बड़े fraud के सामने आने का संकेत है ।

इसी समय सूर्य,चंद्र बुध का एक साथ तुला राशि में होना राहु ( सैंहिकेय )का अमृतपान करने की इच्छा जताना और बाकी सारे ग्रहों का direct/indirect संबंध बनाकर 120* के बीच होना जहाँ दक्षिण ,दक्षिण पश्चिम दिशा में भूकंप की भूमिका तैयार कर रहे हैं ,सोने के भाव में उतार चढ़ाव का संकेत दे रहे हैं वहीं एक और कहानी के रचे जाने का समर्थन कर रहे हैं। इसे हम एक पौराणिक कथा से समझ सकते हैं –
सूर्य का एक नाम सत्यव्रत भी है। कथा के अनुसार सत्यव्रत के द्वारा किए गए तीन पाप की वजह से स्वर्ग में उनके प्रवेश को प्रतिबंधित किया गया।ब्रह्मर्षि वशिष्ठ ने इससे निपटने में जब उनकी मदद करने से इनकार किया तब ॠषि विश्वामित्र की मदद से उन्होंने स्वर्ग में प्रवेश करने का प्रयास किया पर इंद्र ने उन्हें वापस लौटने पर मजबूर कर दिया। विश्वामित्र ने उनके लिए अलग स्वर्ग की रचना की। ध्रुवतारा बनाया,सप्तॠषि मंडल बनाया,सभी नक्षत्रों की रचना की , तारे बनाए। इस सबके दरम्यान ब्रह्मर्षि वशिष्ठ और ॠषि विश्वामित्र के बीच ही nothern half of galaxy को लेकर मुकाबला शुरू हो गया ।
नवंबर अंतिम सप्ताह से 29 दिसंबर तक के समय के लिये ग्रहों ने पहले ही भारत और पाकिस्तान दोनों के लिए राजनैतिक और आर्थिक उथल पुथल का संकेत दिया है।उससे पहले ग्रहों के बीच ऐसी जुगलबंदी …. ब्रह्मर्षि और ॠषि के बीच के मुकाबले पर नजर …

One comment

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s