PLAIN SIMPLE MUNDANE ASTROLOGY


आज पूरे विश्व में जातीयता को लेकर जो उग्र माहौल बना हुआ है,उसे शुरुआत से समझने के लिए  Samuel Huntington की किताब के साथ साथ कुछ और भी किताबों को पढ़ना शुरू किया है,वह है
1-Good Muslim Bad Muslim…मुसलमानों की संस्कृति को आज के संदर्भ में जानने के लिए एक महत्वपूर्ण किताब  ( by- Mahmood Mamdani)

2- culture and conflict revolution (by- Kevin Avruch )

3- end of history ( by – Francis Fukuyama )

इन सभी को वर्तमान समय की कसौटी पर रखकर यह निर्धारित करना पड़ेगा कि क्या धारण करें  और क्या छोड़ें।
उपर्युक्त पुस्तकों के आधार पर हम वैश्विक परिस्थितियों को इतिहासकारों की दृष्टि से समझने का प्रयास कर रहे हैं।
अब इसे ज्योतिष के माध्यम से समझने का प्रयास करें और यह देखने का प्रयास करें कि यह उग्रता बन्द होगा या अभी और जारी रहेगी।

2015&2016 के चैत्रशुक्ल प्रतिपदा के आधार पर निम्नांकित बातो की ओर संकेत मिलता है


1-2015 ,जो मानसिक उन्माद की बीज बोएगा,उसकी फसल 2016 में पकेगा।

सम्पूर्ण विश्व में हाहाकार,दुर्भिक्ष,हिंसा,उन्माद् अपने चरमोत्कर्ष पर

2-प्राकृतिक विपदाओं का साल

3- केदारनाथ जैसी घटना तो नहीं पर उससे कम तीव्रता वाले घटना के आसार।

4-जलीय दुर्घटनाओं में वृद्धि।

5- राजनीतिक और न्यायायिक दृष्टिकोण से भी काफी उथलपुथल का समय।

6-2016 तो युद्ध जैसी परिस्थितियां बना सकता है।

ऐसा प्रतीत होता है मानो प्रकृति अपने तरीके से विश्व को बदलने की तैयारी में है।
ऐतिहासिक रूप से निश्चित ही एक नये युग की शुरुआत का काल है।

7- वैश्विक परिदृश्य में बहुत बड़ी साजिश / दुर्घटना  की संभावना भी प्रबल है।

8- छद्म घटनाओं में वृद्धि।

9-दुर्भिक्ष की  वजह से वैश्विक आपदा घोषित किए जाने की संभावना।

ऐसा प्रतीत होता है मानो ,Huntington की  ये पंक्तियाँ –  “the future of both peace and civilization depend upon understanding and co-opration among the political,spiritual and intellectual leaders of the world’s  major civilization.”पूरी तरह से चरितार्थ होने वाली है और इन्हें सफल बनाने में प्रकृति भी अपना पूरा सहयोग देने के पक्ष में है

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s